Monday, May 18, 2020

Success Story of Lijjat Papad - लिज्जत पापड़ की सफलता की कहानी

Hello दोस्तो कैसे हे? आपको Title देख समाज ही गए होगे की आज हम Lijjat Papad की सफलता की बात करेंगे। यह Organization 7 महिलाओ के द्वारा सरु किया गया था। तो आइये आपको बताते के "Success Story of Lijjat Papad" - लिज्जत पापड़ की सफलता की कहानी ।

Shri Mahila Griha Udyog Lijjat Papad जिसे आज पूरा भारत "लिज्जत पापड़" से जनता हे, वो एक Indian women's cooperative हे जिसे महिलाओ द्वारा चलाया जा रहे हे। यह Organization पापड़ के साथ साथ ओर भी खाने की चीज़ बनती हे जेसे खखारा, आपालम जेसी  चिजे ।
Success Story of Lijjat Papad , Lijjat papad
Success Story of Lijjat Papad 
दोस्तो इस संगठन का मुख्य उदेश्य महिलाओ को रोजगारी देना हे ओर साथ ही साथ महिलाओ को अपने पैरो पर खड़ा करना हे। आज इस Company मे 90% से भी ज्यादा Workers महिलाए हे।

आइए अप Deatil मे जानते हे Success Story of Lijjat Papad - लिज्जत पापड़ की सफलता की कहानी के बारे मे।

Success Story of Lijjat Papad - लिज्जत पापड़ की सफलता की कहानी 


History of Lijjat Papad 

दोस्तो Lijjat Papad का Idea मुंबई मे रहेने वाली 7 मूल Gujrati महिलाओ का था, यह महिलाओ Girgaum के Lohana Niwas मे रहेती थी। यह महिलाओ का सोचना था की वो कुछ एसा करना चाहती थी की उसके पास जो Skills हे उसे वो आत्मनिर्भर हो सके जेसे की Coocking । यह 7 क्रांतिकारी महिलाओ का नामे मे नीचे बता रहा हु। 

जसवंतबेन जामनदास पोपट,
पार्वतीबेन रामदास थोदानी, 
उजंबेन नारंददास कुंडलिया,
बनूबेन तन्ना,
लगुबेन अमृतलाल गोकानी,
जयबेन विठलानी,
चुटदबेन अमीश गावडे,

यह 7 महिलाओ ने Rs. 80 उधार लिए थे, यह पेसे उनहो ने "Chhaganlal Karamsi Parekh" से लिए थे, जो उस वक्त Servants of India Society के सदस्य थे ओर साथ मे एक Social Worker भी थे। ओर सरुआत के समय मे इसके मार्गदर्शक भी रहे थे। 

यह उधार लिए पैसे 7 महिलाओ ने एक Laxmidas bhai के द्वारा घाटे मे चल रहा पापड़ बनाने का काम को संभाला ओर साथ मे यह काम मे लाग्ने वाली आवश्यक चीज़ वस्तुओ को खरीद ने मे उपयोग किए। 

15 March 1959 , को यह महिलाओ ने अपने घर के Terrace पर  मिल के पापड़ बनाने का काम सुरू किया , ओर पहेले दिन उनहो ने 4 Packet पापड़ बनाए। उनहो ने ये पापड़ के Packets Bhuleshwar मे एक Local व्यापारी को बेचना सरु कर दिया। 

यह महिलाओ की सरुआत  से ही एक सोच रही हे की अगर Organization को नुकसान हो तब भी वो किसी से मदद या दान नहीं मगेगी। 

अभी लिज्जत पापड़ का मार्केट मे नामे होने लगा था , इसके लिए उनहो ने काही महिलाओ को काम पर रखना सुरू कर दिया था जिसमे से छोटी उम्र की लडकीय भी इस Organization मे सामील होने लगी थी। सिर्फ 3 महीने जीतने केएम समय मे 25 महिलाओ इस काम के साथ जुड़ चुकी थी। इसके साथ ही उनहो ने अपने इस Bussiness को फैलता देख कुछ आवश्यक Machines भी खरीद लिए थे जेसे के Utensils, Cupboards, Stoves, etc। 
Success Story of Lijjat Papad , Lijjat sister
Success Story of Lijjat Papad 
एसे यह Organization का वार्षिक Sales Rs.6196 रुपे का था। ओर साथ मे टूटे हुए पापड़ को उसने अड़ोस पड़ोस मे बाटना सरु कर दिया था। 

पहेले साल मे लीज्जत पापड़ ने बरिस के सीज़न के 4 महिना Production बन्ध राखी थी क्यू की बरिस की वजह से पापड़ को सूखा पाना मुसकिल था इस लिए। तो यह क्रांतिकारी विचार वाली महिलाओ ने इसका Solution भी निकाल लिया । अगले साल इनहो ने Cot and Stove को खरीद लिया जिसे बारिश की सीज़न मे भी पापड़ बना के उसे सूखा सके। 

Growth of Lijjat Papad 

लिज्जत पापड़ ने उसकी Branding and Marketing के लिए सरुआती  दिनो  मे सिर्फ Word of Mouth  ओर Articles in Vernacular Newspapers का ही सहारा लिया था। ओर इसी बीच Compny से दूसरे साल मे 100 से 150 महिलाओ जुड़ चुकी थी, ओर तीसरे साल के अंत तक यह संखा बढ़ कर 300 तक पहोच चुकी थी। 

यह सबके बीच अभी  जहा पे पापड़ बना रह थे वो Terrace की जगह कम पड़ने लगी तो कंपनी ने Kneaded Flour(गूँदा हुआ आटा जिसमे से पापड़ बनते हे।) उन लोगो को घर पीआर देना सरु कर दिया जो लोग घर बेठे बेठे पापड़ बना सके। इसकी वजह से काही सारी महिलाओ आत्मनिर्भर बन रही थी। 

यह सब परिस्थितियो के बीच Lijjat Papad का Annule सेल्स करीब 1,80,000 से भी ऊपर हो चुका था। 
सन 1987 मे  Lijjat Group द्वारा Mumabi के  Bandra मे Kamal Appartments मे एक Property खरीदी गई थी, वह पर सन,1988 मे Registered Office बनाई गाय थी।

Success Story of Lijjat Papad , Lijjat Papad
Success Story of Lijjat Papad 
 
In 1980s, लिज्जत ने बहोत सारे Trade Fairs and Exhibitions मे हिस्सा लिया था जिसकी वजह से लोगो के बीच लिज्जत की Popularity बढ़ गई थी। जिसकी वह जे उनके Sales मे बहोत बढ़ती हुई थी। 

अब लिज्जत के पापड़  United Kingdom, United States, Middle East, Singapore, Netherlands, Thailand, and Other Countries मे भी Exports हो रहे हे। जिसका Annual Export 2001 मे   US$2.4 million से भी ज्यादा था । 

सन 2002 मे Lijjat Papad का Turnover 3 Billion का था  ओर 100 Million का Export था। पूरे India मे 42,000 कर्मचारी काम कर रहे हे और 62 Division हे।  


Branches of Lijjat Papad 

लिज्जत पापड़ की इतनी सफलता के बाद महिलाओ ने Decied किया की  अब Lijjat Papad की ब्रांच खोल देनी चाहिए, इसके लिए उनहो ने Malad ने सन 1961 मे पहेली Branch खोली लेकिन वो असफल रही उन्हे बांध करना पड़ा उसे। 

उसके बाद Company ने सन 1996, मे Sangli Town मे एक ब्रांच खोली थी लेकिन वो असफल रही। इसके बाद सान 1968 मे गुजरात के Valod मे उसका महेला Branch Maharastra के बाहर खोला था। ओर वो भी बहोत अछि सफल रही।  

Product of Lijjat Papad 

अभी तक Lijjat  सिर्फ पापड़ ही बना रही थी, ओर पापड़ मे मिली सफलता के बाद महिलाओ ने ओर भी Products को add करने का विचार किया और उसने काही ओर Products बनाना भी स्टार्ट कर दिया था । 

इस महिला गृह उधयोग के द्वारा सन 1974 मे खाखरा , सन 1976 मे मसाला , वाडी , गेहु का अट्टा , ओर सन 1979 मे Bekary Products बनाना न भी सरु कर दिया था। 1979 के डसके मे Company ने Flour Mill, Printing Division , Polypropylene Packing Division  भी स्टार्ट कर दिया था।  
Success Story of Lijjat Papad ,LIjjat Products
Success Story of Lijjat Papad 
इस गृह उधयोग के द्वारा काही एसे Products भी बनाया था जो Market मे असफल रहे थे जेसे की की  Cottage  Leather , Matches, and Agarbattis।

सन 1988 मे लिज्जत Group   ने  ने Soap Market मे entry कर ली थी ओर उनकी Product Sasa Detergent and Soap थी। सन 1998 मे Sasa का वार्षिक Turnover 500 Million का था , ओर इसका 17% हिस्सा Total Turnover मे था। 

Awards Give Lijjat Papad 

1998-2001 - "Best Village Industries Institution"
2002 - "Businesswoman of the Year"
2003"Best Village Industry Institution"
2005PHDCCI Brand Equity Award
2010-2011 - Power Brand 
Success Story of Lijjat Papad , Awards
Success Story of Lijjat Papad 

दोस्तो , भारत की यह 7 महिलाओ के द्वारा की गय सरुआत आज Rs. 1600 करोड़ की Company बन चुकी हे। यह महिलाओ ने Rs.80 उधर लेके इसकी निव रखी थी और आज देश मे ही नहीं बल्कि पूरे विश्व मे Export कर रही हे।

तो दोस्तो आपको यह महिलाओ की सफलता की कहानी  Success Story of Lijjat Papad - लिज्जत पापड़ की सफलता की कहानी केसी  लगी वो हमे Comments करके जरूर  बताए, ओर एसी ही सफलता की कहानियो पढ़ने के लिए हमारी Website www.aapkahindi.com पे Visit करते रहे।

धन्यवाद !  









1 comment:

Please do not enter any spam link in comments box